प्रेस वार्ता में मुख्य सचिव ने दी जानकारी : कोरोना मरीजों के लिए बेड की संख्या 20 हजार, आईसीयू बेड 243 और वेंटिलेटर 126 

प्रेस वार्ता में मुख्य सचिव ने दी जानकारी : कोरोना मरीजों के लिए बेड की संख्या 20 हजार, आईसीयू बेड 243 और वेंटिलेटर 126 
देहरादून। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा है कि प्रदेश में 135 कोरोना संक्रमित ठीक हुए हैं। कुल 1380 पाॅजिटिव केस में से 697 एक्टीव केस हैं। राज्य में डबलिंग रेट में निरंतर सुधार हो रहा है। अब यह 16 दिन से अधिक हो गई है। हमारा रिकवरी प्रतिशत, राष्ट्रीय औसत के बराबर लगभग 48 प्रतिशत हो गया है। सेम्पलों के पाॅजिटिव होने की दर उत्तराखण्ड में 4.31 प्रतिशत है जबकि देश का औसत 5.37 प्रतिशत है। प्रति मिलियन सेम्पल लेने की दर 3169 है। कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु दर देश में 2.78 प्रतिशत है जबकि राज्य में यह दर लगभग 1 प्रतिशत है।
मुख्य सचिव ने कहा कि पिछले दिनों में कोरोना के मामलों में वृद्धि देखने को मिली है, परंतु इसमें डरने की आवश्यकता नहीं है। हमने अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं में काफी इजाफा किया है। कोरोना मरीजों के लिए बेड की संख्या 20 हजार हो गई है। आईसीयू बेड 243 और वेंटिलेटर 126 उपलब्ध हैं। मुख्य सचिव ने कहा कि कान्टेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिया गया है। 1380 कोरोना पाॅजिटिव के 6294 कान्टेक्ट ट्रेस किए गए हैं। इन कान्टेक्ट के स्वास्थ्य की निगरानी की जाती है। और उनके रिस्क प्रोफाईल का निर्धारण कर आवश्यक कार्यवाही की जाती है। वर्तमान में करीब 1 लाख 30 हजार लोग क्वारेंटाईन में हैं। इनमें से अधिकांश होम क्वारेंटाईन में हैं। राज्य में 55 कंटेनमेंट जोन स्थापित हैं जहां पूरी सख्ती बरती जा रही है। मुख्य सचिव ने दो सप्ताहों के तुलनात्मक आंकड़े देते हुए बताया कि दिनांक 25 मई से 31 मई के दौरान डबलिंग रेट 4.58 दिन, सेम्पल पाॅजिटिव रेट 8.83 प्रतिशत थी। जबकि 1 जून से 7 जून के दौरान डबलिंग रेट 13 दिन और सेम्पल पाॅजिटिव रेट 6.16 प्रतिशत थी। इसी प्रकार 25 मई से 31 मई के दौरान 970 सेम्पल टेस्ट किए गए और बेड की संख्या 8375 थी। जबकि 1 जून से 7 जून के दौरान 1053 सेम्पल टेस्ट किए गए और बेड की संख्या बढ़कर 18234 हो गई।
मुख्य सचिव ने कहा कि नियमों का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। अभी तक लगभग 29737 लोग गिरफ्तार किए गए, 7977 वाहन सीज किए गए और 3 करोड़ 35 लाख रूपए का जुर्माना वसूला गया है। होटल, शोपिंग माॅल, धार्मिक स्थलों के लिए गाईडलाईन जारी की गई है। इन स्थानों पर फिजीकल डिस्टेंसिंग,सफाई, सेनेटाईजेशन, मास्क का अनिवर्यता से पालन किया जाना है। मुख्य सचिव ने कहा कि अगर अनुशासन का परिचय देते हुए आवश्यक नियमों का पालन किया जाता है तो आगे सुविधाओं में बढ़ोतरी की जा सकती है। मनरेगा के काम में निरंतर वृद्धि हो रही है। प्रदेश में मनरेगा में 2,1816 काम चल रहे है। जिनमें 3,07,451 श्रमिक लगे हैं। 15 हजार नए जोब कार्ड बनाए गए हैं, इनमें से 11 हजार को काम भी उपलब्ध करवाया गया है।

गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने की राज्यपाल से स्वीकृति मिलने पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने बधाई दी  

देहरादून। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य द्वारा भराड़ीसैंण (गैरसैंण) को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की स्वीकृति दिए जाने पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने हर्ष व्यक्त करते हुए प्रदेश की जनता, मुख्यमंत्री व भाजपा कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई दी है। आज राज्यपाल द्वारा भराड़ीसैंण (गैरसैण) को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने की स्वीकृति दिए जाने पर हर्ष व्यक्त करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि यह ऐतिहासिक कार्य है और इसे हमेशा याद किया जाएगा।
इसके साथ जहाँ भाजपा द्वारा पिछले विधान सभा चुनाव के दौरान अपने दृष्टि पत्र में गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने का जनता के साथ जो वायदा किया गया था, वह अब पूरा हो गया है। साथ ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विधान सभा के पिछले सत्र में गैरसैंण को प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की जी घोषणा की थी वह भी आज पूरी हुई है। इसके लिए मैं मुख्यमंत्री व भाजपा के सभी कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई देता हूँ। आज उत्तराखंड की जनता की मनोभावना भी पूरी हुई है और भाजपा ने जो कहा वह पूरा हुआ है। श्री भगत ने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश के सभी क्षेत्रों के विकास के लिए कृतसंकल्प है और गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने के साथ पर्वतीय क्षेत्र के त्वरित विकास में बहुत मदद मिलेगी, मुख्यमंत्री ने गैरसैंण को ई राजधानी बनाने की जो घोषणा की है वह त्वरित विकास के नए आयाम खोलेगी।
administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *